बिजनेस

Improve CIBIL Score: खराब हो गया है सिबिल स्कोर तो 30/25/20 का फॉर्मूला अपनाएं, जिन्दगी में कभी भी नहीं खाओगे चोट

Khabar Fatafat Digital Desk: आज के समय में लोन लेने के लिए बहद जरुरी होता है सिबिल स्कोर. सिबिल स्कोर यदि आपका खराब है तो बैंक सीधा ही लोन देने से मना कर देता है. यदि आपका सिबिल स्कोर खराब है तो केवल एक सूत्र को अपनाकर अपना सिबिल स्कोर 800+ आसानी कर पाओगे.

अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा होता है तो आपको आसानी से लोन मिल जाता है। इसलिए सिबिल स्कोर को ठीक रखना जरूरी है। सिबिल स्कोर में कई वजह से फर्क पड़ता है.

मसलन बिल की लेट पेमेंट, ज्यादा सिबिल कार्ड एप्लिकेशन, सिबिल लिमिट बढ़ाना। सिबिल स्कोर को अच्छा करने के लिए 30/25/20 का फॉर्मूला जरूरी है। जानिए कैसे यह आपके सिबिल स्कोर (CIBIL score ka loan par asar) पर असर डालता है।

लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर (importance of Cibil score) बेहद जरूरी है। कंपनियां लोन देते वक्त आपसे इसके बारे में पूछती हैं। अगर आपका यह स्कोर अच्छा होता है तो आपको आसानी से लोन मिल जाता है। 

इसलिए सिबिल स्कोर (CIBIL score kam kyu hota hai ) को ठीक रखना जरूरी है। क्रेडिट स्कोर में कई वजह से फर्क पड़ता है, मसलन बिल की लेट पेमेंट, ज्यादा क्रेडिट कार्ड एप्लिकेशन, सिबिल लिमिट (CIBIL limit kaise badhaye) बढ़ाना।

सिबिल स्कोर को अच्छा करने के लिए 30/25/20 का फॉर्मूला जरूरी है। जानिए कैसे यह आपके सिबिल स्कोर पर असर डालता है।

अगर लेट बिल पेमेंट होता है तो

क्रेडिट स्कोर तय करने में लेट बिल पेमेंट (late payment of credit card) का बहुत असर होता है। क्रेडिट कार्ड बिल या कर्ज का भुगतान देर से करने पर क्रेडिट स्कोर में 30 फीसद असर पड़ता है।

तो आप समझ गए होंगे कि क्रेडिट स्कोर को सही रखने के लिए समय पर बिल और लोन की किस्त (loan EMI) चुकाना कितना जरूरी है।

लिमिट बढ़ाने का योगदान

सिबिल स्कोर का असर क्रेडिट कार्ड की लिमिट (credit card limit) बढ़ाने पर पड़ता है। अगर आप क्रेडिट कार्ड के लिए लिमिट बढ़वाते हैं तो इसका सिबिल स्‍कोर तय होने में 25 फीसद योगदान रहता है।

शुरुआत में कंपनियां कम क्रेडिट लिमिट वाले क्रेडिट कार्ड जारी करती हैं। बाद में आपका सिबिल स्कोर अच्छा (good cibil score)  हो तो आपकी लिमिट बढ़ जाती है।

एक से ज्यादा लोन और क्रेडिट कार्ड

अगर आप ज्यादा क्रेडिट कार्ड यूज (credit card usage) करते हैं तो आपके क्रेडिट रिपोर्ट पर इसका गलत असर पड़ सकता है। बता दें कि आपके द्वारा क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने पर यह क्रेडिट रिपोर्ट के (credit card ki enquiry process)  इंक्वायरी सेक्शन में दिखता है। 

इसलिए अगर आपने कई सारे क्रेडिट कार्ड एप्लिकेशन और लोन आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकते हैं। अगर आपने क्रेडिट कार्ड और लोन के लिए कई आवेदन किए हैं तो इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर 25 फीसद असर पड़ सकता है।

क्या है सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर

सिबिल स्कोर (CIBIL score benefits) तीन अंको से तय होता है। इससे यह पता चलता है कि आपने जो लोन लिया है उसका भुगतान समय से हुआ है या नहीं, इसके अलावा आपने पूरे ब्याज का भुगतान किया है या नहीं। 

आपने सभी रकम एक बार में ही भर दिया है या मिनिमम अमाउंट (minimum balance for credit card)  चुकाया है। इन सबकी जानकारी सिबिल स्कोर में होती है।

Alpesh Bishnoi

अल्पेश पिछले लम्बे समय से डिजिटल खबरी दुनिया से जुड़े हुए है. हालांकि अल्पेश को Finance बीट में काम करने का अत्यधिक अनुभव है लेकिन वो हर क्षेत्र में अपना हुनर इस वेबसाईट पर दिखा रहे है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button